Friday, July 15, 2011

आजकल के बच्चे...

बच्चे नहीं ये बाप हैं
हमारे गले की नाप हैं,
क्या हुआ जो बस्ता है भारी
दुनिया उठाने की है तैयारी
टीवी-इन्टरनेट छानते हैं
अंदर की बात भी सब जानते हैं...

5 comments:

  1. अपनी बातें मनवाना इन्हें आता है,
    गलती ये करें और दंड शिक्षक पाता है ।

    ReplyDelete
  2. rightly said bandhu,yahi sthiti hai aaj kal key baccho ki.
    sadar,
    dr.bhoopendra

    ReplyDelete
  3. bahut kub kaha

    लिकं हैhttp://sarapyar.blogspot.com/

    आपको मेरी हार्दिक शुभकामनायें.

    अगर आपको love everbody का यह प्रयास पसंद आया हो, तो कृपया फॉलोअर बन कर हमारा उत्साह अवश्य बढ़ाएँ।

    ReplyDelete
  4. वाह ....बहुत ही बढि़या ...।

    ReplyDelete