Wednesday, July 20, 2011

पिछड़ते जा रहे भैया जी लोग...

अभी-अभी खबर मिली कि सीए के घोषित परिणामों में ऊपर के तीन स्थानों पर लडकियां बाज़ी मार ले गयी हैं. इससे पहले गर्मियों में दसवीं - बारहवीं के रिजल्ट्स में भी कुछ ऐसा ही हाल था. ये हमारे शूरमाओं को क्या होता जा रहा है. सोचा इस पर कुछ लिखूं क्या पता मेरे लिखने से इनकी खोयी हुई मर्दाना ताकत वापस आ जाये...

इनका ध्यान लड़कियों पर
लड़कियों का ध्यान किताबों में,
ये रहते चौबीसों घंटे
खोये हसीन ख़्वाबों में...
माँ-बाप को उल्लू बनाएं
टीचर को लगायें मस्का,
जब आता है रिजल्ट हाथों में
हालत होती खस्ता....
घरवाले कम दोषी नहीं
इन्हें बिठाएं सिर पर,
लड़की कितनी भी हो सयानी
उसे कहें 'तू चुप कर.'
अगर इसीतरह भैया जी लोग
होते रहे नाकारा,
तो भूल जाइये कि बुढापे में
ये देंगे सहारा...
ये तो खुद रोटी की तलाश में
जा बसेंगे ससुराल,
लड़की ससुराल से आएगी तब
रखने आपका ख्याल...
चर्चित ये नहीं कह रहे कि
सारे के सारे हैं ऐसे,
बीमारी बढ़ती जाती है
समय बढ़ता है जैसे....

इसी तरह राजनीति में भी महिलाओं के बढ़ते दबदबे पर अब ज़रा आते हैं, क्योंकि इनपर बात किये बगैर मामला अधूरा रह जायेगा -

सोनिया गांधी - ये रहती खामोश मगर हर काँग्रेसी थर्राता है
                         बड़े से बड़ा मंत्री भी इनके आगे दुम हिलाता है....
मायावती - पूरा इण्डिया हिलता है जब हथिनी सी ये चिग्घाड़ती हैं
                  दुश्मन कोई राह में आये सीधा कुचल डालती हैं,
                  विपक्षी पार्टियां मंदिर - मस्जिद का मुद्दा जब भी उछालती हैं
                  ये पहुँच वहाँ अपनी ही मूर्ति बेख़ौफ़ लगा डालती हैं...
ममता बनर्जी - सीधी -सादी दिखती हैं पर हैं बड़ी विकराल
                        धोती और चप्पल के बल पर जीत लिया बंगाल,
                        छेड़ो अगर तो शेरनी सी नोच - खसोट डालेंगी
                        कुछ न मिला तो चप्पल से ही धुनाई कर डालेंगी...
जयललिता - तमिलनाडु की मुख्यमंत्री हैं पर
                     केन्द्रीय मंत्री भी इनके यहाँ चक्कर लगाते हैं,
                     अम्मा - अम्मा कहते हुए इनके पैरों में लोट जाते हैं....
सुषमा स्वराज - बोलना भी जानती हैं, दहाड़ना भी जानती हैं
                         नाचना भी जानती हैं, नचाना भी जानती हैं,
                         तेजतर्रार हैं मगर, सीधी - सादी बन जाना भी जानती हैं...
                         अगले इलेक्शन में बीजेपी यदि सत्ता में आये
                         हो सकता है ये प्रधानमंत्री की कुर्सी पर नज़र आयें....

2 comments:

  1. kya bat hai charchit ji.....aapne to kamaal hi kar dala....ummeed hai aapki kavita padkar bhaiyaa logo kuchh to jarur hoga......
    sunar.....

    ReplyDelete
  2. वाह अलग हट के टाइप प्रस्तुति

    ReplyDelete