Saturday, November 26, 2016

लो जी बीमारी का जड़ से हुआ सफाया...


आजादी से अब तक
बीमार रहा ये देश,
नस - नस में व्याप्त
जीवाणु - विषाणु और
न जाने क्या - क्या...
कभी जुकाम - कभी बुखार
कभी जुलाब - कभी सिर दर्द
कभी फोड़े - कभी फुंसी
हमेशा कुछ न कुछ लगा रहना...
आते रहे तमाम हकीम - वैद्य
खिलाते रहे मीठे - मीठे टैबलेट
पिलाते रहे एक से एक टॉनिक,
मरीज भी खुश - हकीम भी खुश
और जीवाणु - विषाणु भी खुश...
पर बीमारी जहां की तहां
बनी रही जस की तस,
बढ़ती रही - फैलती रही
पूरे शरीर को खोखला करती रही...
अब सभी दवायें हुईं बेअसर
बीमारी हो गयी लाइलाज
तब रास्ता था बस एक
ऑपरेशन-सर्जरी-शल्य चिकित्सा...
लेकिन खतरा मोल कौन ले
सबका गुस्सा झेल कौन ले
हार दिखाई देती जिसमें
ऐसी बाजी खेल कौन ले...
ऐसे में एक फकीर आया
बार - बार जिसने चौंकाया
नहीं हुआ था जो भी अब तक
लो जी उसने कर दिखलाया...
पुराना खून बहाया
नया खून चढ़ाया,
इससे बीमारी का हुआ
पूरी तरह सफाया...
माना कुछ मुश्किल हो रही
माना कुछ तकलीफ हो रही
माना थोड़ा दर्द हो रहा,
लेकिन इसके बिना दोस्तों
होता है बदलाव कहां....
अगर ये मुश्किल झेल जाओगे
कल तुम पक्का मुस्कुराओगे,
चुस्त - दुरुस्त - सेहतमंद बनकर
अपना परचम लहराओगे...
इसी बात पर जोर से बोलो
दिल अपना पूरा खोलो -
"डॉ. मोदी जिन्दाबाद
सारा देश तुम्हारे साथ...."

- विशाल चर्चित

2 comments: