Tuesday, October 25, 2011

मुहब्बत का नशा

मुहब्बत का नशा हो तो कहाँ कुछ सूझता है
फिर आबादी या बरबादी ये मर्जी खुदा की है

No comments:

Post a Comment