Monday, October 24, 2011

समझिये कि ग़ज़ल हो गयी.....

हम दिल के मामले में अलफ़ाज़ नहीं देखते
आप उफ़ भी करें तो समझिये कि ग़ज़ल हो गयी....

1 comment:

  1. दो पंक्तियों में काफी कुछ कहा विशाल भाई आप ने ....

    ReplyDelete