Sunday, January 15, 2012

ये मेरे कुछ शेर.....

चलो तुम मिल गए मुझको खुदा का शुक्र है यारा 
नहीं तो दिल-मुहब्बत-आशिकी ये कौन समझाता 
-----------------------------------------------------------
ठहाके गूंजने दो मत दखल दो आ के तुम 'चर्चित'
तुम्हारी मौत पर मायूश थे कल ये सभी अपने 
----------------------------------------------------------- 
आज की रात है मातम, ज़रा इसका मज़ा ले लो 
सुबह कल किस ख़ुशी में क्या पता हँसना पड़े तुमको
----------------------------------------------------------- 
आज की रात है मातम, ज़रा इसका मज़ा ले लो 
सुबह कल किस ख़ुशी में क्या पता हँसना पड़े तुमको 
----------------------------------------------------------- 
दिल फकीरी की तरफ अब कुछ कदम और बढ़ चला है
कहते थे अपना जिसे हम, गैरों सा कुनबा हो चला है.... 
----------------------------------------------------------- 
कोई जब दिल को छू दे तो कलम चल पड़ती है यूं ही
शुरू हो जाता है फिर दौर कई ताज़ा फसानों का...... 
----------------------------------------------------------- 
यहाँ पे ग़म बहुत अक्सर रुलाने को जमाने में
कहाँ बहलायें दिल जाकर जहां देखो वहीँ मातम.... 
----------------------------------------------------------- 
कभी किसी का बहुत ख़ास-ओ-अज़ीज़ न बन 
कि बहुत मिठास कई बीमारियाँ ले आती है... 
----------------------------------------------------------- 
ये चांदमारी तुम्हारी, आफत में जां हमारी
निशाना लगे कि चूके, मौत पक्की हमारी 
----------------------------------------------------------- 
अब इसको कहें मुहब्बत या एक महज़ फितूर
उसने वो पढ़ लिया मैंने लिखा नहीं........ 
----------------------------------------------------------- 
ख़्वाबों में भी कभी हम बेवफा न थे
फिर भी न जाने क्यों वो हैं खफा - खफा..... 
----------------------------------------------------------- 
सुना कर दास्तान - ए - ग़म अगर राहत मिले तुमको
सुनाते जाओ यूं ही तुम कि जब तक सांसें हैं मेरी..... 
----------------------------------------------------------- 
इस दिल में आते - जाते हैं अक्सर तमाम लोग
पर जिस तरह से तुम गए हो जाया नहीं जाता 
----------------------------------------------------------- 
करते हैं कई लोग किताबी बातें तो बहुत अच्छी 
पर मैदान छोड़ देते हैं जब हकीकत से पड़े पाला 
----------------------------------------------------------- 
रिश्तों को समझने में कई खा जातें हैं चक्कर
कि जिनको शूरमा कहते कई मोर्चों पे लोग अक्सर 
----------------------------------------------------------- 
शर्म आती नहीं तुमको यूं मुझको बेवफा कहते
खड़े हैं मोड़ पर अब भी जहां पे तुमने छोड़ा था 
----------------------------------------------------------- 
बहुत ज्यादा तकल्लुफ क्यों अगर अपना कहा तुमने
पकड़ लो रास्ता सीधा जो दिल के इस तरफ आता.... 
----------------------------------------------------------- 
आशिकी में होशियारी आम होती जा रही
यार की आँखों अब चश्में से देखा जा रहा 
----------------------------------------------------------- 
आपको देखे से बढती आँखों में कुछ रौशनी
बेवजह देखा करें अब इतने हम पागल नहीं 
----------------------------------------------------------- 
दिखती कहाँ हैं आज कल इतनी दरियादिली
अब तो एहसान बाद में पहले जताया जाता है 
----------------------------------------------------------- 
उन्हें गुमान है अपने हुस्न पर हमें प्यारी है खुद्दारी
उन्हें महफ़िल का चस्का है हमें यारी-ओ-दिलदारी 
----------------------------------------------------------- 
कोई इंसां हो तो बात करें एक पत्थर से उम्मीद नहीं
जो शोर बहुत करता है पर दिल जैसी कोई चीज़ नहीं 
----------------------------------------------------------- 
जब ग़मों का दौर हो तो हौसला ज़रूरी है
जिस तरह से तैरना होता है दरिया के खिलाफ
----------------------------------------------------------- 
अच्छा है सताती हैं मेरी यादें तुम्हें अक्सर
चलो इसी बहाने दिल से आवाज़ तो आती है 
----------------------------------------------------------- 
वो आदतन चलाता है अपनी मर्ज़ी हम आदतन रूठ जाते हैं
यूं इस तरह उससे दिल के तार अक्सर जुड़ते हैं छूट जाते हैं 
----------------------------------------------------------- 
ये कोई मामूली नहीं दर्द - ए - इश्क है
आते - आते आया है, जाते - जाते जाएगा....
----------------------------------------------------------- 
तुम घबराया न करो यूं उसके जाने से ' चर्चित '
वो बार - बार जाता है बार - बार आने के लिए 
----------------------------------------------------------- 
नहीं कोई घाव है ऐसा कि जिसको भर न पाए वक़्त
सही मरहम मिले तो ज़िन्दगी फिर से चहकती है.... 
----------------------------------------------------------- 
लगता है तुम्हें शौक है पहेलियाँ बुझाने का
वर्ना इस तरह से दर्द बयाँ कौन करता है 
----------------------------------------------------------- 
जुड़े हों दिल इरादे हों तो मुश्किल कुछ नहीं चर्चित
जो रूठा है वो मानेगा अगर तबियत से कोशिश हो 
----------------------------------------------------------- 
क्या मज़ा है इश्क में जो अगर रूठें न वो
उनके तीखे तेवरों का लुत्फ़ ही कुछ और है 
----------------------------------------------------------- 
बहुत गहरी उदासी है किसी सदमे में हो शायद
नहीं तो इस कदर तकदीर को कोसा नहीं जाता 
                   
                  - Copyright © All Rights Reserved 

2 comments:

  1. बहुत खूब लिखा है आपने ...

    ReplyDelete
  2. वाह! भाई क्या बात है ,ये शेरों का सुन्दर सा पिटारा बहुत उम्दा लगा ,एक से बढकर एक शेर है ......बधाई ....

    ReplyDelete