Friday, June 11, 2021

सोनू यार मोनू यार बारिश कितनी अच्छी यार...

alt="SONU YAAR MONU YAAR"
सोनू यार मोनू यार
बारिश कितनी अच्छी यार,
मम्मी बोली नहीं भीगना
छतरी कितनी छोटी यार...

चल कागज की नाव बनायें
पानी में उसको तैरायें,
तितली रानी को भी उसमें
बिठा के दोनों सैर करायें...

अरे देख तो वो है चींटा
चींटे पर चल मारें छींटा,
अच्छा बेचारे को छोड़
आ हम दोनों खायें पपीता...

वाह मस्त क्या हरियाली है
लगता जैसे खुशहाली है,
ठंडी-ठंडी हवा बह रही
दिल को खुश करने वाली है...

पापा कहते पढ़-पढ़-पढ़
होता जा रहा तू मनबढ़,
कीचड़-पानी में मत खेल
नये बहाने तू मत गढ़...

पापा को कैसे समझायें
हम बच्चे कैसे बंध जायें,
बारिश हो और हम ना भीगें
क्या हम भी पापा बन जाये?

- विशाल चर्चित

#childhood #children #friendship #बचपन #दोस्ती #यार #rain #बारिश

10 comments:

  1. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (१२-०६-२०२१) को 'बारिश कितनी अच्छी यार..' (चर्चा अंक- ४०९३) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी नमस्ते, आपका हृदय से आभार... मैं अभी उपस्थित होता हूँ...

      Delete
  2. वाह बहुत खूब रचना है...।

    ReplyDelete
  3. वाह! सरल सरस बच्चों सी मासूम बाल कविता।
    मोहक और बचपन की तरफ लेकर जाती सी।

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete