Wednesday, October 28, 2020

कुछ दोहे आज के हालात पर...

छप्पन व्यंजन खाय के,भरा पेट कर्राय
तब टीवी की खबर पर, 'देश प्रेम' चर्राय

नेता उल्लू साधते, आपन गाल बजाय
जनता देखय फायदा, बातन में आ जाय

जोड़-तोड़ बनि जाय जो, दोबारा सरकार
लूट-पाट होने लगे, बढ़ता भ्रष्टाचार

महंगाई जस जस बढ़ै, व्यापारी मुस्कायँ,
जैसे आवय आपदा, फौरन दाम बढ़ायँ

पत्रकारिता बिक गयी, कलम करे व्यापार
समाचार के दाम भी, माँग रहे अखबार

कामकाज को टारि के, बाबू गाल बजायँ
देश तरक्की कर रहा, सोचि सोचि मुस्कायँ

अब शिक्षा के नाम पर, शोबाजी भरपूर
टीमटाम तो बहुत है, शिक्षा कोसों दूर

- विशाल चर्चित

#दोहा  #दोहे  #हिन्दी  #कविता  #Hindi  #doha  #dohe  #poetry

Monday, October 19, 2020

यदि हम समाप्त तो समझो प्रकृति समाप्त...

alt="FORESTLIFE"

ईश्वर ने अगाध प्रेम से
बनायी थी ये धरती,
बनाये थे पेड़-पौधे-पुष्प...

निर्मित किये थे सघन-वन
उसमें भाँति-भाँति के
पशु-पक्षी और कीट-पतंगे...

सब एक-दूसरे के साथ
एक - दूसरे पर निर्भर
सब अपनी सीमा में
सब अपनी मर्यादा में...

और फिर आया मनुष्य
सबसे अधिक चतुर
सबसे अधिक बुद्धिमान...

उसने तोड़े प्रकृति के नियम
उसने बनाये अपने नियम
उसने तय की मर्यादायें...

कि एक राजा होगा
उसका साम्राज्य होगा
गाँव होंगे - नगर होंगे...

उपयोगी पशु-पक्षी पालतू होंगे
अनुपयोगी वन में रहेंगे
वन गाँव - शहर से दूर होंगे...

चलो ये सब भी माना
लाखों वर्षों से मनमानियों
के बाद भी तुम्हें अपना माना...

नहीं किया कभी कोई भयानक विरोध
नहीं किया कभी सीमाओं का उल्लंघन
रह लिये कभी तुम्हारे पिंजरों में
तो कभी तुम्हारे बनाये घरों में...

करते रहे तुम्हारी सेवा
करते रहे तुम्हारी गुलामी
जिये तो तुम्हारे लिये
मरे तो तुम्हारे लिये...

पर अब....? ये क्या?
अब तो तुम उजाड़ने लग गये
हमारे घर ही - हमारे वन ही
लगाने लग गये उनमें आग?

तो अब हम क्या करें?
कहाँ रहें - कहाँ जायें?
कैसे जियें - क्या खायें?

अब तो आना ही पड़ेगा न
तुम्हारी बस्तियों में
तुम्हारे गावों - तुम्हारे शहरों में...

अब तो उजाड़ना ही पड़ेगा न
तुम्हारे खेतों को - बगीचों को
साफ करना ही पड़ेगा तुम्हारे खाद्यान्नों को...

लगाओ जितने बाड़ लगा सकते हो
बिठाओ जितने पहरे बिठा सकते हो
लाओ जितनी मशीनें ला सकते हो...

याद रहे 'चर्चित' तुम यदि हो
अरबों खरबों में तो
हम सब पशु-पक्षी और
कीट पतंगे हैं
शंखों नहीं महा-शंखों में...

यदि हम समाप्त तो
समझो प्रकृति समाप्त
और प्रकृति समाप्त तो
सृष्टि यानी सबकुछ समाप्त...

- विशाल चर्चित

#forest  #animal  #birds  #insects  #catle
#वन  #जंगल  #वन्य_जीव  #वन्य_प्राणी
#जंगली_जानवर  #पशु_पक्षी  #कीट-पतंगे

Sunday, October 04, 2020

कविता में स्त्री दुर्गा, पिता - पति - भाई मुर्गा...

alt="STREEDURGA"

आज हास्य-व्यंग्य के जरिये एक ऐसी बात कहने जा रहा, जो शायद ही कोई कहने की हिम्मत रखता हो, वजह है चाटुकारिता की बढ़ती प्रवृति, स्वार्थांधता की होती अति... विषय है तथाकथित शिक्षित महिला लेखिकाओं और कवयित्रियों (अधिकांश लेकिन सब नहीं) की नारी महिमा मंडन की अति और पुरुषों के प्रति आग उगलती कलम... जो कि परिवारिक कलह का अक्सर कारण बनती है... और इसमें आग में घी काम करती हैं तथाकथित महिला गुणी पुरुष मित्रों की अति सराहनायें... किसी का घर टूटता है तो टूटे पर अपनी मित्रता बची रहनी चाहिये बस्स... ध्यान रहे स्त्री और पुरुष दोनों इस सृष्टि का अभिन्न अंग हैं और दोनों की अपनी-अपनी महत्त्वपूर्ण  भूमिकायें हैं और इन्हीं भूमिकाओं के हिसाब से ही ईश्वर ने दोनों के अलग - अलग शारीरिक - मानसिक गुणों से युक्त व्यक्तित्व की रचना की है... न कोई किसी से कम है - न किसी का योगदान ही कम है - न कोई कम महत्त्वपूर्ण ही है...

हाँ, ये अलग बात है कि कलियुग में हो रही हर चीज में मिलावट की तरह अब व्यक्तित्वों में भी मिलावट दिख रही... स्त्रियों में पुरुषत्व और पुरुषों में स्त्रीत्व दिखना आम होता जा रहा, कहीं शारीरिक रूप से तो कहीं मानसिक..... बाकी रही बात अन्याय - अत्याचारों की तो वो सतयुग - त्रेता - द्वापर सभी युगों में रहा है... रावण हो या कंस, ओसामा हो या बगदादी इन सबने अत्याचार या अन्याय करते वक्त स्त्री - पुरुष नहीं देखा... जो बुरा है वो सबके लिये है.... जो अच्छा है वो सबके लिये है... एक बात और कि सभी स्थान - धर्म - जाति - वर्ग में अच्छे लोग भी हैं तो बुरे लोग भी... लेकिन एक झटके में ये कह देना कि सब ऐसे ही हैं...  इनका नाश हो जाये... शस्त्र उठा लो... युद्ध छेड़ दो आदि जैसी बातें... जबकि आपको भी पता है आप अपने लेख - अपनी कविता के जरिये भड़ास निकाल रहे बस... वैसे तो आपके इस लेख या कविता से कुछ बदलने वाला नहीं है... हाँ कुछ लोगों को भड़काने के लिये... वाह - वाह पाने के लिये ठीक है पर इसे सराहनीय नहीं कहा जा सकता... क्योंकि एक एक अच्छा लेख - एक अच्छी कविता तभी कही जायेगी जब वो समाज को जोड़ने की, नव-विकास की प्रेरणा दे न कि तोड़ने की या सर्वनाश की प्रेरणा दे... बहरहाल अब मैं ३ व्यंग्यात्मक दृश्य प्रस्तुत कर रहा जिससे वस्तु-स्थिति पूर्णतया साफ हो जायेगी...

दृश्य एक :
पति से अक्सर झगड़ा होता है, बात - बात पर हाथ उठाते हैं, सीधे मुँह बात नहीं करते, किसी और महिला से चक्कर चल रहा, बाहर पैसे उड़ाते हैं, घर में पैसे नहीं देते, खुद पसरे रहते हैं, पत्नी को ऑर्डर देते रहते हैं ये लाओ - वो बनाओ, मेरा ये नहीं मिल रहा - मेरा वो नहीं मिल रहा.... सास हमेशा रोब झाड़ती है, ताने मारती है, कभी हाथ भी उठाया होगा... ननद भी अपना घर छोड़ के आ जाती है यहाँ अपनी होशियारी दिखाने - हमारे मामले में टाँग अड़ाने... और ये भी उन्हीं लोगों का साथ देते हैं... अरे सब एक ही थाली के चट्टे-बट्टे हैं... मेरे तो भाग्य ही फूट गये जो इस घर में व्याह हुआ... मर्द सब एक जैसे ही होते हैं... स्वार्थी कहीं के... ये सभी बातें घुमड़ती रहती हैं चौबीसों घंटे और होता है इनका मंथन तब निकलती हैं रचनायें...

'नारी तू उठ, शस्त्र सँभाल'... 'नारी तू अंबा है - तू जगदंबा है'... 'हे स्त्रियों अब न सहो तुम पुरुषों का ये दमन'.... 'तोड़ दो सारे बंधन - तोड़ दो सब जंजीरें'... 'अबला नहीं तू सबला है'.... 'तेरे चरणों की धूल भी नहीं पुरुष'.... 'मर्द हैं सारे एक जाति के'... 'भोग-विलास की वस्तु नहीं तू, तोड़ दे उन सब हाथों को'... 'जब - जब नारी ने सीमा लाँघी तब - तब सर्वनाश तुम समझो'... आदि - आदि। निकाल गयी सब भड़ास... मन को अत्यंत सुकून मिला... सबको सुना दी खरी - खोटी... किसी को भी नहीं बख्शा... देखा मेरा टैलेंट... मेरी एक ही रचना से सब हिल गये... चहुँ ओर प्रशंसा हो रही है बस इस घर में ही कद्र नहीं है... अनपढ़ जाहिल कहीं के...

खैर, तो अब कुछ सवाल... जैसा कि आपने अपनी रचना में कहा है... तो क्या अब आप अपने पति से अलग हो जायेंगी? क्या समस्त परिवार का त्याग कर सकेंगी? क्या समस्त पुरुष जाति के खिलाफ तलवार उठा सकेंगी? आपका अपने पिताजी - बाऊ जी - पापा के बारे में क्या खयाल है, जिनको कि बचपन से ही आपने आदर्श माना और उनके लिये आप 'लाड़ली बिटिया रानी'? और अपने भाई के लिये क्या कहेंगी जिसे आप संसार का सबसे सीधा प्राणी मानती हैं? ये सब भी तो शायद पुरुष जाति के ही हैं न? और जिस सास और ननद से आपकी घोर दुश्मनी रही है, जिन्होंने ही आपके पति का दिमाग खराब किया... या वो कलमुही ऑफिस वाली जिसने आपके इनको अपने जाल में फँसाया, उसके बारे में क्या खयाल है आपका... वो भी तो शायद स्त्री जाति की ही है... वो भी तो शायद अम्बा - जगदंबा ही है वो भी रानी लक्ष्मीबाई का ही अवतार है न?

हा हा हा हा... अरे? इत्ता सब तो सोचा ही नहीं... बस जो दिल में आया लिख दिया... तुम 'चर्चित' दिमाग बहुत लगाते हो... और तुम न हमारी रचनाओं को मिल रही प्रशंसा से जलते भी हो... आज पता चला... हा हा हा हा...

दृश्य दो :
वाह बहन आपने क्या रचना लिखी... हृदय गदगद हो गया... सच में... 'यदि स्त्री न होती तो ये सृष्टि न होती'.... 'नारी कल भी भारी थी आज भी भारी है, पुरुष कल भी आभारी था आज भी आभारी है'... 'नारी तुम ही गीता हो नारी तुम ही रामायण'... वाह मैडम वाह... आज से पहले मैंने ऐसी रचना कभी नहीं पढ़ी... आप ही ऐसी बात कहने का साहस कर सकती हैं... आपके साहस के नाम मेरी ये रचना... 'उठो द्रौपदी शस्त्र उठाओ अब कोई कृष्ण न आयेंगे' आदि - आदि।

अब मेरा इन महानुभावों से प्रश्न है कि... सबसे पहले तो आप बतायें कि आप स्त्री हैं या पुरुष? फिर क्या आपको पता है कि द्रौपदी के चीरहरण के समय बचाने आये कृष्ण पुरुष ही थे, वहाँ मौन बैठे भीष्म-द्रोण जैसे महारथी भी पुरुष ही थे? क्या पुरुषों का दायित्व महिलाओं की रक्षा की जगह अब उनका महिमामंडन और उनसे अस्त्र उठवाना ही रह गया है? क्या आप जैसे शूरवीरों का काम चाटुकारिता, तुष्टिकरण, और महिलाओं के पीछे भागना और छिपना ही रह गया है? क्या आप घर में अपने पुरुष दायित्वों का पूर्ण निर्वाह कर रहे? क्या आपकी झूठी प्रशंसा और आपके झोठे प्रोत्साहन से यदि कोई महिला बेघर होती है तो क्या आप उसे सहारा देंगे? नहीं न?! तो फिर ऐसा ढोंग क्यों... ऐसी झूठी कविता क्यों... झूठा प्रोत्साहन क्यों... अच्छे-खासे परिवार को तोड़ना क्यों?

दृश्य तीन :
सुनो जी, कहाँ हो? जल्दी आओ.... किचन में एक छिपकली का बच्चा घूम रहा है... मैं चाय कैसे बनाऊँ?... अरे भाड़ में जाये तुम्हारा ऑफिस... हमें कुछ नहीं पता... जल्दी आओ बस...!!!... हेलो, अजी कहाँ हो आप? अभी-अभी मैंने टीवी पर न्यूज देखी, अर्मेनिया-अजरबैजान कहीं है वहाँ लड़ाई छिड़ी हुई है बम - मिसाइलें चल रही... मेरा तो दिल बहुत घबरा रहा है... आप जल्दी आओ... नहीं मैं कुछ नहीं जानती... बाबा जी ने भी बताया था कि ये २०२० का साल बहुत भारी है... कोरोना अलग फैला हुआ है... लड़ाई अलग छिड़ी हुई है... ऐसा लगता है कि दुनिया खत्म होने वाली है...!!!... अरे आप भी न क्या वो कविता की बात को लेकर बैठ गये... वो तो मैंने ऐसे ही लिख दिया था... बाकी मैं आपको छोड़कर कहाँ जानेवाली हूँ... मेरी तो ख्वाहिश ही यही है कि दुनिया छोड़ूँ तो आपकी बाँहों में.... !!!

.... तो फिर वो रानी लक्ष्मीबाई..... अम्बा - दुर्गा - चंडी... जो लिखा वो सब?.... अरे आप भी न? वो तो कभी - कभी गुस्सा आता है तो लिख देती हूँ... बाकी कोई अपना घर - परिवार बर्बाद करता है क्या?!!

उपसंहार :
हा हा हा हा... तो देखा? ये है भारतीय नारी (हालांकि सब ऐसी नहीं हैं)... लड़ना - झगड़ना एकतरफ... अपना घर - परिवार और पति - परमेश्वर एक तरफ...!!! ये सबक है उन नारद मुनियों के लिये जिनका बस चले तो हर घर में झगड़ा करा दें अपनी रोटी सेंकने के लिये... लेकिन क्या करें इनकी चलती ही नहीं है न?! खैर, इससे सीख लेनी चाहिये कि हे स्त्रियों, आप कुँवारी हों या विवाहित... कुछ भी लिखने से पहले... तलवार चलाने से पहले ये सोच लें कि इससे घायल आपके पिता - भाई - पति - बेटा सभी हो सकते हैं, ये सभी पुरुष हैं और इन सबके बिना शायद ही आप रह सकें... तो फिर झूठी बातें - झूठे दावे या झूठा आक्रोश दिखाती हुई कविता या लेख क्यों लिखना... लिखना ही है तो बुराई के खिलाफ लिखिये... बुराई के लिये जिम्मेदार लोगों के खिलाफ लिखिये... आपको सतानेवाली आप पर अन्याय करनेवाली सास - ननद के खिलाफ लिखिये भले ही वो भी नारी ही हैं।

इसीतरह हे कोमल हृदय पुरुषों, आप बजाय दूसरों की स्त्रियों को भड़काने के पहले ये देखें कि कहीं जाने -अनजाने आप अपनी माँ - पत्नी या बहन पर अन्याय - अत्याचार तो नहीं कर रहे... ध्यान रखिये कि लेट कर टीवी देखते हुए... फेसबुक - व्हाट्सप चलाते हुए जब आप बात - बात पर ऑर्डर चलाते हैं, अपने चाय का कप तक नहीं उठाते, अपना बिस्तर तक नहीं उठाते... हर चीज - हर काम के लिये पत्नी या बहन को कहते हैं... यदि आप इनसे सीधे मुँह बात नहीं करते... या बहुत कम बात करते हैं... कुछ पूछने पर जवाब नहीं देते... अपने परिवार को समय नहीं देते तो आपकी महान बातें - महान दावे सब खोखले हैं - झूठे हैं... आपके लेख - आपकी कविता पर क्षणिक वाह-वाही तो मिल सकती है पर ऐसी रचनायें कालजयी नहीं हो सकतीं... क्योंकि ये विश्वास उत्पन्न नहीं करतीं... हृदय में - मानस पटल पर अंकित नहीं होतीं... सूर - तुलसी - कबीर - मीरा - रहीम आदि की कृतियाँ ऐसे ही अमर नहीं हुईं... उन्होंने अपनी रचनाओं में सिर्फ कोरी लच्छेदार लोकलुभावन बातें ही नहीं कीं बल्कि उन्होंने वैसा ही जीवन जिया है... अपनी कृतियों को जिया है...

खैर, लिख तो दिया है अब देखते हैं कितनों को समझ में आती है...

- विशाल चर्चित

#women,  #ladies, #female, #स्त्री, #नारी, #महिला, #दुर्गा, #अम्बा, #लक्ष्मीबाई

Friday, October 02, 2020

गांधी जी एवं शास्त्री जी को समर्पित ये दो मुक्तक...

आज दो महापुरुषों का जन्मदिन है... महात्मा गांधी जी और
लालबहादुर शास्त्री जी का... प्रस्तुत है दोनों को नमन् करता ये मुक्तक...alt="GANDHISHASTRI"

#gandhi_jayanti#shastri_jayanti#गांधी_जयंती#शास्त्री_जयंती


Friday, September 25, 2020

माय कपल्स

alt="COUPLECHALLENGE"
शुरू करो कपल चैलेंज लेकर हरि का नाम
समय बिताने के लिये ये सबसे अच्छा काम

कपल कि जैसे जोड़ा - जोड़ी
कपल कि जैसे घोड़ा - घोड़ी
कपल कि जैसे कुत्ता - कुत्ती
कपल कि जैसे जुत्ता - जुत्ती

इन सबके ३६ गुण मिलते
पर ऐसे कपल है कितने मिलते
इसीलिये अब नियम में ढील
चलो बताओ बट विद फील

कपल कि जैसे लहंगा - चुन्नी
कपल कि जैसे मुन्ना - मुन्नी
कपल कि जैसे कलम - दवात
कपल कि जैसे दाल और भात
कपल कि जैसे जामुन - गुलाब
कपल कि जैसे चखना - शराब

चलो भई चर्चित पुट फुल स्टॉप
चखना-शराब, द कपल ऑन टॉप
कम ऑन स्पीक ओनली इंग्लिश
ऐन्ड डान्स माय डियर नॉन स्टॉप...

- विशाल चर्चित

#couple_challenge #funny_poem  #कपल_चैलेन्ज   #हास्य_कविता

Monday, September 21, 2020

बढ़ते विकल्प - भ्रमित जीवन...

alt="CONFUSEDLIFE"
बढ़ते विकल्प
सबकुछ की लालसा
और भ्रमित जीवन...

विषयों की भीड़
प्रसाद सी शिक्षा
ढेर सारा अपूर्ण ज्ञान...

उत्सवों की भरमार
बढती चमक दमक
घटता आनंद...

व्यंजनों की कतारें
खाया बहुत कुछ
फिर भी असंतुष्टि...

सैकड़ों चैनल
दिन-रात कार्यक्रम
पर मनोरंजन शून्य...

रिश्ते ही रिश्ते
बढ़ती औपचारिकता
और घटता अपनापन...

अनगिनत नियम कानून
बढ़ते दाँव - पेच
और बढ़ता भ्रष्टाचार...

फलती-फूलती बौद्धिकता
सूखते-सिकुड़ते हृदय
और दूभर होती श्वास...

अनेकों सूचना माध्यम
सुगम होती पहुँच
फिर भी घटता संपर्क...

फैलती तकनीक
बढ़्ती सुविधायें
घटती सुख-शान्ति...

हजारों से जुड़ाव
सैकड़ों से बातचीत
फिर भी अकेले हम...

- विशाल चर्चित 

#confused_life, #options_in_life, 
#life_poetry, #जीवन, #जिन्दगी, #भ्रम
#विकल्प, #कविता, #काव्य, #शायरी