Saturday, January 02, 2021

नया साल - नयी नज़्म...

alt="NEWYEARNAZM"
सबकुछ न बदले
पर इतना तो बदले,
कि इन्सान अपनी ही
फितरत न बदले...

मौसम न बदले
तो तासीर बदले,
हवाओं का रुख और
खुशबू तो बदले...

जीना न बदले
मरना न बदले
मगर बीच की जंग
का मंजर तो बदले...

रिश्ते न बदलें
जमाना न बद्ले
मगर नकली दिखना
दिखाना तो बदले...

नेता न बदलें
सियासत न बदले
जनता का बातों
में आना तो बदले...

कहते हैं चर्चित
नये साल पर ये
कि यारों का यूं
मुस्कुराना न बदले...

- VISHAAL CHARCHCHIT

#new_year, #naya_saal, #nav-varsh, #नया_साल, #नव_वर्ष

12 comments:

  1. बहुत ही सुन्दर रचना
    नववर्ष मंगलमय हो 🙏

    ReplyDelete
    Replies
    1. अभिलाषा जी आभार... आपके लिए भी शुभ - सुखद नव - वर्ष की हार्दिक मंगलकामना।

      Delete
  2. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर सृजन..नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
    Replies
    1. मीना जी आभार... नव-वर्ष आपके लिये अत्यंत मंगलमय हो।

      Delete
  4. बहुत सुन्दर रचना।
    बधाई हो आपको।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हृदय से आभार... एवं आपके संपूर्ण परिवार के लिये नये साल की हार्दिक शुभकामनायें...।

      Delete
  5. सुन्दर रचना

    ReplyDelete