Friday, June 23, 2017

कमजोर पड़ता दिख रहा अब 'देसी' च्यवनप्रास...


कर्म करके फल पायें ये आम बात है, कर्म कोई और करे लेकिन फल पायें हम ये खास बात है... अध्यापक पढ़ाये और हम मेहनत से पढ़ाई करें परीक्षा में प्रश्नपत्र हल करें और तब पास हों ये आम बात है, हम करें घुमाई अध्यापक पढ़ाये वही हल करे प्रश्नपत्र परीक्षा में और हम अच्छे अंकों से पास हो जायें तो ये खास बात है... बच्चे विद्यालय जायें शिक्षक मन लगाकर पढ़ायें अधिकांश बच्चे पास हो जायें ये आम बात है, बच्चे विद्यालय जायें शिक्षक चुटकुले सुनायें पढ़ने के लिये कोचिंग बुलायें जो जाये कोचिंग सिर्फ वही हो पास तो ये खास बात है... महीने भर मेहनत से काम करें और तब पायें तन्ख्वाह ये आम बात है, घर में बैठ कर भी लगे हाजिरी और पायें मोटी तन्ख्वाह तो ये खास बात है... नौ महीने तक तमाम तकलीफें सहें तब कहीं जाकर मातृत्व सुख मिले ये आम बात है, कोई और तकलीफें सहे हमारी सेहत और सुन्दरता ज्यों की त्यों बनी रहे और मातृत्व सुख भी पा जायें तो ये खास बात है... हम करें अपराध पुलिस आये पकड़्कर ले जाये ये आम बात है, हम करें अपराध और हम ही पुलिस बुलायें अपनी जगह किसी और को पकड़वायें तो ये खास बात है... हम पड़ें बीमार डॉक्टर वसूले भारी फीस और तब हो हमारा इलाज ये आम बात है, हम पड़ें बीमार कोई और बिल चुकाये हमारी एक किडनी डॉक्टर चुपके से उसे थमाये तो ये खास बात है... अदालत में चले मुकदमा सारे सबूत गवाह जुटायें केस जीत जायें ये आम बात है, न गवाह न सबूत लायें सीधे जज को पटायें केस जीत जायें तो ये खास बात है.... हमेशा करें अच्छे काम हमेशा तारीफ पायें चर्चित हो जायें ये आम बात है, हमेशा करें उल्टे सीधे काम हमेशा खिंचाई करायें और खूब चर्चा में आयें तो ये खास बात है.... अब आप करें फैसला बनना है आम या खास, पर इतना जान लीजिये कि कमजोर पड़ता दिख रहा अब 'देसी' च्यवनप्रास... - विशाल चर्चित

6 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (25-06-2016) को "हिन्दी के ठेकेदारों की हिन्दी" (चर्चा अंक-2649) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हृदय से आभार सर जी

      Delete
  2. बहुत बढ़िया

    ReplyDelete