Friday, December 09, 2011

ये मेरे कुछ शेर..........

उनके ग़म - उनकी यादों के अलावा भी है बहुत कुछ
क्या भूल गयी इतनी ज़ल्दी माँ की वो लोरियां.... ?
-----------------------------------------------------------
शोला है तो भड़केगा हवा दें या कि पानी दें
जिन्हें जलना है जलते हैं बिना अंगारों के भी यार 
-----------------------------------------------------------
तरीके और भी हैं यूं तुम्हारे पास रहने के
मगर डर है नज़र लग जाएगी हमारी इस मुहब्बत को
-----------------------------------------------------------
तुम्हें मालूम क्या कि क्या बला हो तुम अदाओं में
खुदा भी खुद बनाकर जल गया होगा तुम्हें शायद 
-----------------------------------------------------------
अजी क्या खूब है दावा मुहब्बत में निभाने का
चलो एक बार फिर से ओखली में सिर देके देखेंगे 
-----------------------------------------------------------
आप यूं याद करते रहा न करें
हिचकियाँ हैं सताती हमें रात - दिन
-----------------------------------------------------------
बात खूबसूरती से शुरू होती थी तब भी अब भी
पर सूरत से शुरू किस्सा सीरत पे ख़त्म होता है 
-----------------------------------------------------------
यूं इस कदर तन्हाई अगर रास आ गयी
तो पहले कदम पर ही इश्क दम तोड़ जाएगा
-----------------------------------------------------------
उनके लिए जब आँखें गंगोत्री हो चली
उम्मीद है कि एक दिन संगम भी आएगा
-----------------------------------------------------------
खबर क्या थी यारों कि ये दिन भी होगा
अपने ही घर में बेगानों सी हालत........
-----------------------------------------------------------
दौलत - ए - ग़म बहुत है सम्हालें कहाँ - कहाँ
अश्कों से भीगी ज़िन्दगी सुखाएं कहाँ - कहाँ 
-----------------------------------------------------------
चलो कुछ काम तो आया मुहब्बत में फना होना
हमारे नाम का जलवा तुम्हारे शहर तक पहुंचा......
-----------------------------------------------------------
मुहब्बत में ग़लतफ़हमी तो अक्सर हो ही जाती है
मगर जब दिल जुड़े हों तो बुरा कुछ भी नहीं होता 
-----------------------------------------------------------
चलो अच्छा हुआ कि बच गए तुम ख़ाक होने से
नहीं तो तुम शहीद - ए - इश्क में भी नाम कर जाते
-----------------------------------------------------------
ऐसा नहीं कि आपकी ज़रुरत नहीं रही
गैरों में रहके आपका ही नाम लिया है
-----------------------------------------------------------
जरूरत क्या जुदाई की जब दिल में इतनी चाहत हो
जाओ आजमाओ पहले दिल और अपनी चाहत को
-----------------------------------------------------------
लोगों को आस सावन की तो सहरा क्या दिखाना
उनकी तमाम उम्मीदों पे अब पानी क्या फिराना
माना तस्वीर पुरानी है पर दिल तो है नया - नया
ख़्वाबों का ये नया घरौंदा अब यूं भी क्या गिराना 

-Copyright © All Rights Reserved

4 comments:

  1. बहुत खूब.....

    उनके लिए जब आँखें गंगोत्री हो चली
    उम्मीद है कि एक दिन संगम भी आएगा..

    हर शेर काबिले दाद है...

    ReplyDelete
  2. बहुत खूबसूरत प्रस्तुति |
    बधाई स्वीकारें ||

    ReplyDelete