Monday, August 27, 2012

तमाम बेरोजगार आशिकों के दिल की आवाज़....


     कड़ी आजमाइश - कडा इम्तहान
     फंसी है बड़ी अपनी आफत में जान...

                                  वहाँ हर घडी ऐंठी रहती माशूका 
                                  यहाँ घर में अब्बा मरोड़े हैं कान...

     मुहब्बत में कडकी के जलवे बड़े 
    जब देखो तब जेब लहूलुहान...

                                 एक तो बड़ा घाव है बेरोज़गारी
                                 जिसपे छिड़कता नमक खानदान...

    डिग्रियां देखकर मुंह बनाते हैं वो यूँ
    जैसे तजुर्बा लिए पैदा होता जहान...

                               इधर चोंच हमसे लड़ाती है वो
                               उधर दिल में रहता है सलमान खान...

    'चर्चित' निकम्मे थे तुम भी कभी
   नहीं चलती थी जब तुम्हारी दूकान...

                                                    - VISHAAL CHARCHCHIT

Thursday, August 02, 2012

ये राखी के धागे........

क्या अजीब खेल हैं ज़िंदगी के
      कि एक ही कोख से जन्म लेते हैं
            वर्षों एक छत के नीचे साथ रहते हैं
                     लड़ते हैं - झगड़ते हैं - रूठते हैं - मनाते हैं 
                               समझते हैं - समझाते हैं...
       ढेर सारी चीजों पर -
              ढेर सारी बातें करते हैं
                    हर सुख में - हर दुःख में
                           एक दूसरे का सहारा बनते हैं......

              देखते ही देखते पता ही नहीं चलता 

                      और आता है एक दिन ऐसा भी कि 
                               न चाहते हुए भी बिछड़ जाते हैं हम...
                                       बस रोते - बिलखते लाचार से 
                                                हाथ हिलाते रह जाते हैं हम...

                       अब तो सिर्फ आवाज सुनाई देती है

                               या वर्षों बाद मिलना हो पाता है...
                                       इस बीच अकेले में हमें जोड़े रखता है
                                              हमारा प्यार - हमारे बचपन की यादें
                                                       कुछ परम्पराएं - कुछ संस्कार
                                                                 और इनकी खुशबू से भीगे धागे,
                                                                          ये राखी के धागे........

                                                                           - VISHAAL CHARCHCHIT